सनातन धर्म के अध्‍ययन हेतु वेद-- कुरआन पर अ‍ाधारित famous-book-ab-bhi-na-jage-to

जिस पुस्‍तक ने उर्दू जगत में तहलका मचा दिया और लाखों भारतीय मुसलमानों को अपने हिन्‍दू भाईयों एवं सनातन धर्म के प्रति अपने द़ष्टिकोण को बदलने पर मजबूर कर दिया था उसका यह हिन्‍दी रूपान्‍तर है, महान सन्‍त एवं आचार्य मौलाना शम्‍स नवेद उस्‍मानी के ध‍ार्मिक तुलनात्‍मक अध्‍ययन पर आधारति पुस्‍तक के लेखक हैं, धार्मिक तुलनात्‍मक अध्‍ययन के जाने माने लेखक और स्वर्गीय सन्‍त के प्रिय शिष्‍य एस. अब्‍दुल्लाह तारिक, स्वर्गीय मौलाना ही के एक शिष्‍य जावेद अन्‍जुम (प्रवक्‍ता अर्थ शास्त्र) के हाथों पुस्तक के अनुवाद द्वारा यह संभव हो सका है कि अनुवाद में मूल पुस्‍तक के असल भाव का प्रतिबिम्‍ब उतर आए इस्लाम की ज्‍योति में मूल सनातन धर्म के भीतर झांकने का सार्थक प्रयास हिन्‍दी प्रेमियों के लिए प्रस्‍तुत है, More More More



Monday, March 1, 2010

कौन कहता है कि ईश्‍वर अल्लाह एक हैं


आम तौर पर लोग यह समझते हैं कि गांधी जी ने बताया है ‘‘ ईश्‍वर अल्लाह तेरो नाम सबको सन्मति दे भगवान ‘‘
या फिर लोग कहते हैं कि साईं बाबा ने कहा है कि
सबका मालिक एक
और अल्लाह मालिक
लेकिन हकीक़त कुछ और है।
वैदिक साहित्य तो इसका उद्घोश तब से कर रहे हैं जब मुसलमान भारत में आये भी नहीं थे ।
अल्लोपनिषद इसी महान सत्य का उद्घोश है ।भारत की हिन्दू मुस्लिम समस्या के खात्मे के लिए भी यह अकेला उपनिषद काफ़ी है और भारत को विश्‍व गुरू बनाने के लिए भी ।
अल्लो ज्येष्‍ठं श्रेष्‍ठं परमं पूर्ण ब्रहमाणं अल्लाम् ।। 2 ।।
अल्लो रसूल महामद रकबरस्य अल्लो अल्लाम् ।। 3 ।।
अर्थात ’’ अल्लाह सबसे बड़ा , सबसे बेहतर , सबसे ज़्यादा पूर्ण और सबसे ज़्यादा पवित्र है । मुहम्मद अल्लाह के श्रेष्‍ठतर रसूल हैं । अल्लाह आदि अन्त और सारे संसार का पालनहार है । (अल्लोपनिषद 2,3)



52 comments:

HAKEEM SAUD ANWAR KHAN said...

nice post.
अर्थात ’’ अल्लाह सबसे बड़ा , सबसे बेहतर , सबसे ज़्यादा पूर्ण और सबसे ज़्यादा पवित्र है । मुहम्मद अल्लाह के श्रेश्ठतर रसूल हैं । अल्लाह आदि अन्त और सारे संसार का पालनहार है । (अल्लोपनिशद 2,3)

HAKEEM SAUD ANWAR KHAN said...

amazing.

दीपक 'मशाल' said...

Bhai khud ko pahichaan lo.. ishwar ya allaah to apne aap mil jayega.. qab ek ho ya alag kya fark padta hai.. jise na dekha na jana uske bare me kyon pareshan hain.. agar khud ko bahut achchhe se jaante hain to beshak dhoondhe us sarvashaktimaan ko...

Anonymous said...

good job

GULSHAN said...

ab samjha Shopenhover jase log kyon upnishadon ke deewane ho gaye the kyunki ye sabko jodte hain.

Anonymous said...

kahan se dhoon ke late ho yaar?
tum to hath dho kar peechey hi pad gaye hamare vedic literature ke.
kuchh aur kaam hai ki nahin?

dr. anwer jamal said...

logon ko jodne se achha kam kaun sa hota hai bhai?
aao aap bhi saath do .

Mohammed Umar Kairanvi said...

वाह जमाल साहब, माशाअल्‍लाह, आप जल्‍दी सीख रहे हैं और अच्‍छे तरीके से ज्ञान की बातें पेश कर रहे हैं, nice post

vedvyathit said...

bndhu yh aap ka bhramk prchar kr rhe hainyh ek nkli upnishd hai jo muslmano ke aane bad prkash me aaya hai yh prmanik 11 upnishdon me bilkul bhi nhi hain
is ke vishy me mumbai se 1932 me prkashit pt. rghunndn shrma ki pustk vaidik smptti ko dekhna jroori hai jis me prman shit ke jhooth ko drshaya gya hai jise aap prchrit kr rhe hai aur ydi aap ise shi mante hai to is se phle grnthon ko bhi mane yh aap anaitik apradh kr rhe hai logo bhrm me dal rhe hai ydi vstv me aap ki niyt thik hai to aap ukt pustk abshy pdh kr fir likhe ki us me is ke bare me kya likha hai anytha aap ki niyt me khot apne aap sidh ho jayega
dr. ved vyathit

Anonymous said...

aare musalmano tumko apni pahchan ka dar lag raha, tabhi to aap apne aap ko hindu dharm, or doosre dharm se jabar dasti jodte rahte ho, hindu dharm kishi ko jabardasti nahi jodta. na hi humko tumhare "nafrat bhare" dharm se judna

Anonymous said...

aare bhaya vedquran.blogspot.com ke dwara tum kyon jhoote prachar kar rahe ho, tumhe aur koi kaam nahi, jab dekho allah ke peeche pade rate , ishiliye to tum sabse anpad , gareeb hain, pahle apni dasa sudharo. tumhari dasa pe badi daya aati . is satya ko koi nahi jhhotla sakta ki hindu dharm sabe purana and sabe bada dharm hain, or isko jhoot sabit karne ke liye tum apna time barbad kar raho

gaurav said...

dr ved vyathit ji
aap vyarth hi pareshan ho rahe hain. agar ye upnishad pramaanik nhi hai, to aaye din "Sarita magazine" me vedo k apramaanik hone k bhi pramaan aate rehte hain. agar aap upnishado me aastha nahi rakhte, to na rakhen. jo inme aastha rakhte hain, unhe hi samajhne dijiye wo sach ko jaan jayenge. Jab apke anusaar vedon k baad k poore poore dhaarmik granth naqli ho sakte hain, to vedo me milawat na ho, yeh kaise ho sakta hai? Kuchh kehte hain k ved naqli... kuch bolte hain Upnishad aur Puran Naqli.... Aam janta to badi duvidha me fas gayi hai, k bhaartiya dharm grantho me kisko asli maane aur kisko naqli?

प्रवीण शाह said...

.
.
.
आदरणीय डॉ० अनवर जमाल साहब,

अपने धर्म के प्रचार के लिये आपका उत्साह मैं समझ सकता हूँ, परंतु...
'Allopanishad' is a purported Upanishad of the Atharva Veda, believed to be written during Akbar's reign. It declares that "the Allah of the prophet Muhammad Akbar is the God of Gods" and identifies him with Mitra, Varuṇa, Surya, Soma, Indra, etc.

According to Swami Dayanand Saraswati's Satyarth Prakash:

"Now there is only one thing left (before we are done with this subject.) the Mohammedans, not often, say, write or publish that the Mohammedan religion is spoken of in the Atharva Veda. It will suffice to say that there is not a word about this faith in the Veda in question.''

Ques -Have you read the whole of the Atharva Veda? If you have refer to Allopanishad. It is given there in plain words. Why do you then say that nothing is said in the Atharva Veda about the Mohammedan religion? Here is a passage from the Allopanishad:'

'Asmallam ille Mitra Varuna………allorasul Mohammad Akbarasya Allo Allam……..etc.'

'That Mohammad is here spoken of as the prophet in unequivocal terms, is a sufficient proof of the fact that the Muslim faith has its origin in the Veda.'

Ans. ~ If you have not read the Atharva Veda, come to us and look through its pages from beginning to end, or you may go to any person who knows that book and read with him all the verses given in its twenty chapters. You will never find the name of your Prophet in it. And as regards Allopanishad it is not given in the Atharva Veda or in its ancient commentary, called the Gopath Braahama or in any of its Shaakhaas (branches). We surmise that some one wrote it in the reign of the Emperor Akbar. Its author appears to have been a man who knew a little of Sanskrit and Arabic, because in its text both Sanskrit and Arabic words occur. For example, the Arabic words Asmallam Ille and the Sanskrit words Mitra and Varuna occur in the above passage and the same is seen throughout the whole book.'

'If we look to its meaning, it is altogether artificial, unsound and opposed to the teachings of the Veda (while the construction of words and sentences, is quite ungrammatical). The followers of other creeds who are blinded by bigotry have also likewise forged Upanishads such as Swarop Upanishad, Narsinhatapni, Ramtapni, Gopal tapni.'

अल्लोपनिषद अकबर के जमाने में लिखा गया है, इसके लेखक ने इसे लिखने में संस्कृत व अरबी दोनों जुबानों के शब्द प्रयोग किये हैं, ऊपर अल्लोपनिषद की शास्त्रीयता व प्रमाणिकता के बारे में स्वामी दयानंद सरस्वती जी के विचार मैंने लिखे हैं पर मैं दावे के साथ कहता हूँ कि वैदिक साहित्य का कोई भी विद्वान अल्लोपनिषद को असली नहीं मानता है।
आभार!

बवाल said...

ऐसा है डॉ. साहब, जब इंसान फ़ालतू बातों में वक्त ज़ाया करने लगता है ना आप हम जैसे, तो उसे सुधारने के लिए अक्सर ईश्वर और अल्ला मियाँ एक हो जाया करते हैं। और होली को ईद के बाज़ू से पड़वा देते हैं। है कि नहीं ?

मुनव्वर सुल्ताना said...

अल्लोपनिषद,खुदोपनिषद,मुहम्मदोपनिषद,अलीउपनिषद,हजरतोपनिषद,नबीउपनिषद.....आदि आदि इत्यादि। भाई एक हजार साल तक शासन करके तो उपनिषद ही क्या चारों वेदों में भी ये सुधार करवाया जा सकता था, अकबर महाशय गलती कर गये या सोचते थे कि इस तरह अरब से दूर पनपी इस सभ्यता को इतने से प्रयास से जय कर लेंगे।
कुछ तो जरूर बात है कि हस्ती नहीं मिटती
सदियों से रहा है दुश्मन दौरे जहाँ हमारा...
ये इस संस्कृति को समर्पित है जिसका अपना वजूद था है और रहेगा। याद है कि मुहम्मद(स.अ.व)ने कहा था कि जब ये मुहर गुम हो जाएगी तब से इस्लाम का पतन होना शुरू हो जाएगा.... याद आया कि उनके बाद सारे करारों पर जो मुहर लगी है वह बाद में बनी है जरा जाकर तुर्की सरकार द्वारा प्रमाणित करी सामग्री देख आओ अरब भक्तों जहाँ अरब सरकार ने नबी के घर में पासपोर्ट कार्यालय बना दिया था अब हज हाउस है। इस्लाम का पतन हो चुका है आज जो मौजूदा रूप है वह मात्र लोगों द्वारा अपने हित साधने के लिये रचा,झूठे साक्ष्यों और ग्रन्थों की बातें उठा कर बनाया गया है

Aaliya said...

Islam dharm to shuru se jodne ka hi kaam kar raha hai.. Islam dharm kya Hindu dharm bhi Jodne ka kaam hi karta hai. Dharm jodta hai, todta nahi. Apne ghalat likha k "Hindu Dharm kisi ko zabardasti nahi jodta". Eeshwar ne to shuru se insaano ko judne ka sandesh diya hai..
Muslims ko pehchaan ki zarurat nahi...Na hi Allah k alwa kisi ka dar....
Muslims ki pehchan to Allah ne karwa hi di hai sare vishw me "Fastest Growing Religion in the world without any Sword and Gun.But with the weapon of Love, Knowledge and Justice".
Kisko kiska kitna dar hai, isko jaan ne k liye "Samuel P. Huntington" ki book "Clash of Civilisation" padh len.
Aur jahan tak gharibi ka sawal hai, to shayad aapne bharat ki jhuggi jhopdi, dalito aur gaanvo (villages) ki janta ki haalat ko dekha hai. ye to eeshawr ki srishti vyavastha hai, kahan Saudi Arab, Dubai, Malasia, Egypt, Turkey, Brunei aur Kuwait etc. k dhani musalmaan hai, to kahi Bharat mein rehne wale Gharib bhi hain..

ab inconvinienti said...

मुनव्वर सुल्ताना से सहमत. आप जैसे लोग इस्लाम को बदनाम करते हैं, वर्ना इस्लाम इतना बुरा है नहीं जितना आप जैसों ने उसे बना डाला है. हमने मान लिया की कुरआन मुस्लिमों को हिंसा और आतंक नहीं हिन्दुओं, ईसाईयों, यहूदियों, बौद्धों, जैनियों के विचारों का सम्मान करना सिखाती है. आप भी मान लीजिये. वैसे ही इस्लाम आप औरन सलीम खान जैसे अपरिपक्व लोगों के चलते कम बदनाम नहीं है. आप जेहाद-ए-अकबर से पहले अपनी रूहानी सफाई करें ताकि आप नबी के सन्देश को साफ़ साफ़ समझ सकें.

आपको इस्लाम के बारे में बताना भी है तो केवल और केवल कुरआन की रौशनी में अपनी बात रखें. ये हिन्दुओं के धर्मग्रंथों को बीच में लाकर भड़काने की क्या ज़रूरत है. बिना मतलब झगडा मोल ले रहे हो.

तुम्हारा दीन तुम्हारे लिए, और हमारे विश्वास और धर्म हमारे लिए...... यही कुरआन का सन्देश है.

पी.सी.गोदियाल said...

चलो इसी बहाने आप और आपके कुछ भाईबंद खुश हो लिए हमें उतनी ही संतुष्ठी है!

arvind said...

अल्लाह सबसे बड़ा , सबसे बेहतर , सबसे ज़्यादा पूर्ण और सबसे ज़्यादा पवित्र है । मुहम्मद अल्लाह के श्रेश्ठतर रसूल हैं । अल्लाह आदि अन्त और सारे संसार का पालनहार है ......bahut accha.jankari ke liye bahut-bahut dhanyavaad.

Mohammed Umar Kairanvi said...

भाई जमाल साहब यह तो हर किताब को कह देते हैं यह रद है, एक पोस्‍ट में इनसे पूछलो कि सारे मिलके बता दो कौन सी रद नहीं है, फिर आपका तमाशा इनसे देखा नहीं जायेगा, यह मैं जानूं या खुदा जाने
,

आओ अब अब भी समय है
signature:
विचार करें कि मुहम्मद सल्ल. कल्कि व अंतिम अवतार और बैद्ध मैत्रे, अंतिम ऋषि
(इसाई) यहूदीयों के भी आखरी संदेष्‍टा? हैं या यह big Game against Islam है?
antimawtar.blogspot.com (Rank-1 Blog) डायरेक्‍ट लिंक

अल्‍लाह का
चैलेंज पूरी मानव-जाति को

अल्‍लाह का
चैलेंज है कि कुरआन में कोई रद्दोबदल नहीं कर सकता

अल्‍लाह का
चैलेंजः कुरआन में विरोधाभास नहीं

अल्‍लाह का
चैलेंजः आसमानी पुस्‍तक केवल चार

अल्‍लाह का
चैलेंज वैज्ञानिकों को सृष्टि रचना बारे में

अल्‍लाह
का चैलेंज: यहूदियों (इसराईलियों) को कभी शांति नहीं मिलेगी


छ अल्लाह के चैलेंज सहित अनेक इस्‍लामिक पुस्‍तकें
islaminhindi.blogspot.com (Rank-2 Blog)
डायरेक्‍ट लिंक

शहरोज़ said...

उसके फ़रोगे-हुस्न से झमके है सब में नूर

शमा-ए-हरम हो या कि दीया सोमनाथ का

साथियों मीर तक़ी मीर का यह शे'र याद कर लीजिये.

सलीम खान said...

माशाअल्‍लाह

Tarkeshwar Giri said...

शिव ही ईश्वर है, शिव अनंत है , शिव ही स्वामी है। शिव के नाम अनेक हैं। शिव ही अल्लाह है।

Anonymous said...

bhai musalmaan to hum bhi hain, fark itna hai ki jise tum Kaba me chhupa kar poojte ho use hum Kashi aur Amarnath me Shiv kah ke poojte hain

Suresh Chiplunkar said...

भाई प्रवीण शाह जी ने विस्तार से सब कुछ बता दिया है… अब मेरा कुछ कहना उचित नहीं है…

DR. ANWER JAMAL said...

Main aap sabhi banduon aur buzurgon ka tahe dil se shukraguzar hoon.

Anonymous said...

Yeh jaankar achha laga ki AAp log Pavitra Ved padh rahe ho. Meri aap se viniti hain ki GEETA ko Bhi padhe, Dr Abdul Kalam hamesa subah Geeta Padhte hain, Isi karan vo itane samajhdaar aadmi bane. Musalman bhaiyo se meri viniti hain ki GEETA padhe, AAtankvaad ka rashta chhoot jayega, Quran padhne se AAtankvadii hi banoge . Hamare Desh Vikash hoge. Bamb phodne hamare desh ka nukshan hota hai, be gunaah log marte hain, aurate or chhote bache marte hain. Des kii Economi kharab hoti. So des hit me GEETA padhe. Bin laden or Taliban ko bhi GEETA De dena. sare sansaar ka bhalaa hoga

Nikhil kumar said...

kisko khus kar rahe hai aap apne aap ko ya phir apne jaise kuch aur logon ko , kaun bara kaun chhota jan ke kaya hoga , ye jo kuch question aap utha rahe hai inse kuch hasil nahi hoga Dr. sahab bas aap k apne jaat walo ki wah wahi aur dusro ki galiyan bas agar aap is se khus hai to phir continue kijeye warna kuch aachi batain bataiye , jo jaan kar lage ki kuch sikha aap se..............

नवीन त्यागी said...

jamal tera allah kabhi ishvar nahi ho sakta ye baat sabhi kopata hai.
jahaan ishvar poore vishv samaaaj ka hai,vahin tera allaah keval musalmaano ka hai,kyoki tera allah doosre dharmo ke logo ko maarne,lootne,aurton ke balatkar karne ke liye jannat ka pralobhan va loot ke maal ko halal karke musalmaano ko ghoos deta hai.
to tera allah ishvar kaise ho sakta hai.

Rajesh Rai said...

Mere Bhai Ye Sab Bakwas Jara News Paper me likho to Pata Chalega. Tum Pakistan Ja kar Hindu Virodh Kyon Nahi Karte. Are Pongapanthi Ab tak sab log hindu muslim ekta ki bat karate hai tum kyon hindu virodh kar sasti lokpriyata pana chahte ho.

sleem said...

bhaiyo cachhha ko poochha ki aapka kaba ka aakar bilkool yoni jesa kyo he ...???or shiv ling ling jaisa or dono ko bitha diya jaye inch bhi farak nahii aaye...aisa kyo???chchaa knowlge rakhte itna to bata hi denge per..chchhha chidh gaye ..mene socha kanhi fatava jari nahi kar de...lakin sawal dimag me aayega to gyaniyo ko hi poochana padega naa.vese chaachha bata dijiye naa

sleem said...

baaaba moorkho ko dixit kro please....chale nahi to chailiya to hongi roobina...fatima..aaysha ..rehana vagrehe vagrehe????....baba moojhe bhi chela bana lo na ???? ashram me jhadoo poncha hi laga loonga...baba kanha he aapka ashram????...baba on line chaila hi bana lo orkut ki jese yanhi se ghoop agrbti kar doonga charan choo loonga ...aap ko bhi chaliyo ki chinta nahi rahegi????????

sleem said...

bhaiyo baba ne keval ek swal ka jawab diya ki toom hindu or musalman dono hi nahi ho...gyanibaba se mene kai swal poonchhe he vo javab hi nahi de rahe ...shaya mere ko lagata mere swal post ho blogeee baba ke blog per or shaya blogee baba mere swal doosre p.c per established hone hi nahee...sandehe ...balogee baba ne ek bhi swal ka javab nahi diya???????? jo ki inke katheet kuran or islaam se smandheet the..ab inko khood ke religion ka gyan nahi hoto doosro ke dhrmo ki kya jankaree baba please mere swalo ka javab dijiye??????///

Anonymous said...

jai shri ram ab meri suno bahout bol liye. main sari bate kuran ki karoonga apne man se ek bhi nahi agar kahi bahar se karoonga to bataiyega 1) kya tumhara allah wahi hai jisne muslim ko banaya aur kuran ko to saitan ko kisne banaya agar allah ne to tumhara allah hi doshi hua 2)aaj islam dharam ko aaye 1400 saal hue jabki prithi ki age 2000000000 saal hai itne dino se tumhara allah so raha tha kya 3) jab jibraeal pagamber ke pass gaya aur usne pagamber se bola ki allah ne tumhe nabi chuna hai dharam prachar ke liye tab pagamber ne bola main padha likha nahi hu tab jibreal ne 3 bar gala ghota kya allah ko ye bhi nahi patta jise main chun raha hu wo anpadh hai 4) islam punarjanm aur aatma main belive nahi karta ek baat batana ki jo log apahij , garib,aur badsoorat hote hai aur uske oposite jo healthy ,amir aur khoobsoorat padia hota unme bhiad kyo kya reason hai ki koi garib to koi amir paida hua 5) kuran main likha hai jo kafir muslamano ko gali deta hai khuda uska apradh likh leta hai kya bina likhe tumhare khuda ko kuch bhi yaad nahi 5) jab hazrat mosa ne ek ko mara aur wo mar gaya to khuda ne use maf kar diya bina galti ke mara tha kya yahi nyay hai khuda ka 6) kuran main hai ki allah ne farishto se kaha ki baba adam ko pranam karo tab ek ne pranam nahi kiya kyo ki wo kafir saitan tha aur allah uska kuch bigad nai paya kya yahi takat hai tumhare allah ke pass 7)baba adam ko aasirwad diya tum swarg main jakar rahi par us ped ke samne mat jana nahi to papi ho jaoge aur wo chala gaya phir allah ne use swarg se nikal kar jamin par chale jane ko kaha kya jab allah ne aashirwad diya ki swarg main raho tab tumhare khuda ko ye patta nahi tha ki ye papi ho jayega phir jamin par bhagana padega iska matlab tumhara khuda ko kuch mallom nahi

नवीन त्यागी said...

सारे मुसलमान हिन्दुओं की ओलाद हैं ,अलाह नाम की चीज कोई नहीं है .सब गढ़ा हुआ है,इसे पढ़ ----- स्व0 मौलाना मुफ्ती अब्दुल कयूम जालंधरी संस्कृत ,हिंदी,उर्दू,फारसी व अंग्रेजी के जाने-माने विद्वान् थे। अपनी पुस्तक "गीता और कुरआन "में उन्होंने निशंकोच स्वीकार किया है कि,"कुरआन" की सैकड़ों आयतें गीता व उपनिषदों पर आधारित हैं।
मोलाना ने मुसलमानों के पूर्वजों पर भी काफी कुछ लिखा है । उनका कहना है कि इरानी "कुरुष " ,"कौरुष "व अरबी कुरैश मूलत : महाभारत के युद्ध के बाद भारत से लापता उन २४१६५ कौरव सैनिकों के वंसज हैं, जो मरने से बच गए थे।
अरब में कुरैशों के अतिरिक्त "केदार" व "कुरुछेत्र" कबीलों का इतिहास भी इसी तथ्य को प्रमाणित करता है। कुरैश वंशीय खलीफा मामुनुर्र्शीद(८१३-८३५) के शाशनकाल में निर्मित खलीफा का हरे रंग का चंद्रांकित झंडा भी इसी बात को सिद्ध करता है।
कौरव चंद्रवंशी थे और कौरव अपने आदि पुरुष के रूप में चंद्रमा को मानते थे। यहाँ यह तथ्य भी उल्लेखनीय है कि इस्लामी झंडे में चंद्रमां के ऊपर "अल्लुज़ा" अर्ताथ शुक्र तारे का चिन्ह,अरबों के कुलगुरू "शुक्राचार्य "का प्रतीक ही है। भारत के कौरवों का सम्बन्ध शुक्राचार्य से छुपा नहीं है।
इसी प्रकार कुरआन में "आद "जाती का वर्णन है,वास्तव में द्वारिका के जलमग्न होने पर जो यादव वंशी अरब में बस गए थे,वे ही कालान्तर में "आद" कोम हुई।
अरब इतिहास के विश्वविख्यात विद्वान् प्रो० फिलिप के अनुसार २४वी सदी ईसा पूर्व में "हिजाज़" (मक्का-मदीना) पर जग्गिसा(जगदीश) का शासन था।२३५० ईसा पूर्व में शर्स्किन ने जग्गीसी को हराकर अंगेद नाम से राजधानी बनाई। शर्स्किन वास्तव में नारामसिन अर्थार्त नरसिंह का ही बिगड़ा रूप है। १००० ईसा पूर्व अन्गेद पर गणेश नामक राजा का राज्य था। ६ वी शताब्दी ईसा पूर्व हिजाज पर हारिस अथवा हरीस का शासन था। १४वी सदी के विख्यात अरब इतिहासकार "अब्दुर्रहमान इब्ने खलदून " की ४० से अधिक भाषा में अनुवादित पुस्तक "खलदून का मुकदमा" में लिखा है कि ६६० इ० से १२५८ इ० तक "दमिश्क" व "बग़दाद" की हजारों मस्जिदों के निर्माण में मिश्री,यूनानी व भारतीय वातुविदों ने सहयोग किया था। परम्परागत सपाट छत वाली मस्जिदों के स्थान पर शिव पिंडी कि आकृति के गुम्बदों व उस पर अष्ट दल कमल कि उलट उत्कीर्ण शैली इस्लाम को भारतीय वास्तुविदों की देन है।इन्ही भारतीय वास्तुविदों ने "बैतूल हिक्मा" जैसे ग्रन्थाकार का निर्माण भी किया था।
अत: यदि इस्लाम वास्तव में यदि अपनी पहचान कि खोंज करना चाहता है तो उसे इसी धरा ,संस्कृति व प्रागैतिहासिक ग्रंथों में स्वं को खोजना पड़ेगा.

नवीन त्यागी said...

सारे मुसलमान हिन्दुओं की ओलाद हैं ,अलाह नाम की चीज कोई नहीं है .सब गढ़ा हुआ है,इसे पढ़ ----- स्व0 मौलाना मुफ्ती अब्दुल कयूम जालंधरी संस्कृत ,हिंदी,उर्दू,फारसी व अंग्रेजी के जाने-माने विद्वान् थे। अपनी पुस्तक "गीता और कुरआन "में उन्होंने निशंकोच स्वीकार किया है कि,"कुरआन" की सैकड़ों आयतें गीता व उपनिषदों पर आधारित हैं।
मोलाना ने मुसलमानों के पूर्वजों पर भी काफी कुछ लिखा है । उनका कहना है कि इरानी "कुरुष " ,"कौरुष "व अरबी कुरैश मूलत : महाभारत के युद्ध के बाद भारत से लापता उन २४१६५ कौरव सैनिकों के वंसज हैं, जो मरने से बच गए थे।
अरब में कुरैशों के अतिरिक्त "केदार" व "कुरुछेत्र" कबीलों का इतिहास भी इसी तथ्य को प्रमाणित करता है। कुरैश वंशीय खलीफा मामुनुर्र्शीद(८१३-८३५) के शाशनकाल में निर्मित खलीफा का हरे रंग का चंद्रांकित झंडा भी इसी बात को सिद्ध करता है।
कौरव चंद्रवंशी थे और कौरव अपने आदि पुरुष के रूप में चंद्रमा को मानते थे। यहाँ यह तथ्य भी उल्लेखनीय है कि इस्लामी झंडे में चंद्रमां के ऊपर "अल्लुज़ा" अर्ताथ शुक्र तारे का चिन्ह,अरबों के कुलगुरू "शुक्राचार्य "का प्रतीक ही है। भारत के कौरवों का सम्बन्ध शुक्राचार्य से छुपा नहीं है।
इसी प्रकार कुरआन में "आद "जाती का वर्णन है,वास्तव में द्वारिका के जलमग्न होने पर जो यादव वंशी अरब में बस गए थे,वे ही कालान्तर में "आद" कोम हुई।
अरब इतिहास के विश्वविख्यात विद्वान् प्रो० फिलिप के अनुसार २४वी सदी ईसा पूर्व में "हिजाज़" (मक्का-मदीना) पर जग्गिसा(जगदीश) का शासन था।२३५० ईसा पूर्व में शर्स्किन ने जग्गीसी को हराकर अंगेद नाम से राजधानी बनाई। शर्स्किन वास्तव में नारामसिन अर्थार्त नरसिंह का ही बिगड़ा रूप है। १००० ईसा पूर्व अन्गेद पर गणेश नामक राजा का राज्य था। ६ वी शताब्दी ईसा पूर्व हिजाज पर हारिस अथवा हरीस का शासन था। १४वी सदी के विख्यात अरब इतिहासकार "अब्दुर्रहमान इब्ने खलदून " की ४० से अधिक भाषा में अनुवादित पुस्तक "खलदून का मुकदमा" में लिखा है कि ६६० इ० से १२५८ इ० तक "दमिश्क" व "बग़दाद" की हजारों मस्जिदों के निर्माण में मिश्री,यूनानी व भारतीय वातुविदों ने सहयोग किया था। परम्परागत सपाट छत वाली मस्जिदों के स्थान पर शिव पिंडी कि आकृति के गुम्बदों व उस पर अष्ट दल कमल कि उलट उत्कीर्ण शैली इस्लाम को भारतीय वास्तुविदों की देन है।इन्ही भारतीय वास्तुविदों ने "बैतूल हिक्मा" जैसे ग्रन्थाकार का निर्माण भी किया था।
अत: यदि इस्लाम वास्तव में यदि अपनी पहचान कि खोंज करना चाहता है तो उसे इसी धरा ,संस्कृति व प्रागैतिहासिक ग्रंथों में स्वं को खोजना पड़ेगा.

नवीन त्यागी said...

सारे मुसलमान हिन्दुओं की ओलाद हैं ,अलाह नाम की चीज कोई नहीं है .सब गढ़ा हुआ है,इसे पढ़ ----- स्व0 मौलाना मुफ्ती अब्दुल कयूम जालंधरी संस्कृत ,हिंदी,उर्दू,फारसी व अंग्रेजी के जाने-माने विद्वान् थे। अपनी पुस्तक "गीता और कुरआन "में उन्होंने निशंकोच स्वीकार किया है कि,"कुरआन" की सैकड़ों आयतें गीता व उपनिषदों पर आधारित हैं।
मोलाना ने मुसलमानों के पूर्वजों पर भी काफी कुछ लिखा है । उनका कहना है कि इरानी "कुरुष " ,"कौरुष "व अरबी कुरैश मूलत : महाभारत के युद्ध के बाद भारत से लापता उन २४१६५ कौरव सैनिकों के वंसज हैं, जो मरने से बच गए थे।
अरब में कुरैशों के अतिरिक्त "केदार" व "कुरुछेत्र" कबीलों का इतिहास भी इसी तथ्य को प्रमाणित करता है। कुरैश वंशीय खलीफा मामुनुर्र्शीद(८१३-८३५) के शाशनकाल में निर्मित खलीफा का हरे रंग का चंद्रांकित झंडा भी इसी बात को सिद्ध करता है।
कौरव चंद्रवंशी थे और कौरव अपने आदि पुरुष के रूप में चंद्रमा को मानते थे। यहाँ यह तथ्य भी उल्लेखनीय है कि इस्लामी झंडे में चंद्रमां के ऊपर "अल्लुज़ा" अर्ताथ शुक्र तारे का चिन्ह,अरबों के कुलगुरू "शुक्राचार्य "का प्रतीक ही है। भारत के कौरवों का सम्बन्ध शुक्राचार्य से छुपा नहीं है।
इसी प्रकार कुरआन में "आद "जाती का वर्णन है,वास्तव में द्वारिका के जलमग्न होने पर जो यादव वंशी अरब में बस गए थे,वे ही कालान्तर में "आद" कोम हुई।
अरब इतिहास के विश्वविख्यात विद्वान् प्रो० फिलिप के अनुसार २४वी सदी ईसा पूर्व में "हिजाज़" (मक्का-मदीना) पर जग्गिसा(जगदीश) का शासन था।२३५० ईसा पूर्व में शर्स्किन ने जग्गीसी को हराकर अंगेद नाम से राजधानी बनाई। शर्स्किन वास्तव में नारामसिन अर्थार्त नरसिंह का ही बिगड़ा रूप है। १००० ईसा पूर्व अन्गेद पर गणेश नामक राजा का राज्य था। ६ वी शताब्दी ईसा पूर्व हिजाज पर हारिस अथवा हरीस का शासन था। १४वी सदी के विख्यात अरब इतिहासकार "अब्दुर्रहमान इब्ने खलदून " की ४० से अधिक भाषा में अनुवादित पुस्तक "खलदून का मुकदमा" में लिखा है कि ६६० इ० से १२५८ इ० तक "दमिश्क" व "बग़दाद" की हजारों मस्जिदों के निर्माण में मिश्री,यूनानी व भारतीय वातुविदों ने सहयोग किया था। परम्परागत सपाट छत वाली मस्जिदों के स्थान पर शिव पिंडी कि आकृति के गुम्बदों व उस पर अष्ट दल कमल कि उलट उत्कीर्ण शैली इस्लाम को भारतीय वास्तुविदों की देन है।इन्ही भारतीय वास्तुविदों ने "बैतूल हिक्मा" जैसे ग्रन्थाकार का निर्माण भी किया था।
अत: यदि इस्लाम वास्तव में यदि अपनी पहचान कि खोंज करना चाहता है तो उसे इसी धरा ,संस्कृति व प्रागैतिहासिक ग्रंथों में स्वं को खोजना पड़ेगा.

नवीन त्यागी said...

सारे मुसलमान हिन्दुओं की ओलाद हैं ,अलाह नाम की चीज कोई नहीं है .सब गढ़ा हुआ है,इसे पढ़ ----- स्व0 मौलाना मुफ्ती अब्दुल कयूम जालंधरी संस्कृत ,हिंदी,उर्दू,फारसी व अंग्रेजी के जाने-माने विद्वान् थे। अपनी पुस्तक "गीता और कुरआन "में उन्होंने निशंकोच स्वीकार किया है कि,"कुरआन" की सैकड़ों आयतें गीता व उपनिषदों पर आधारित हैं।
मोलाना ने मुसलमानों के पूर्वजों पर भी काफी कुछ लिखा है । उनका कहना है कि इरानी "कुरुष " ,"कौरुष "व अरबी कुरैश मूलत : महाभारत के युद्ध के बाद भारत से लापता उन २४१६५ कौरव सैनिकों के वंसज हैं, जो मरने से बच गए थे।
अरब में कुरैशों के अतिरिक्त "केदार" व "कुरुछेत्र" कबीलों का इतिहास भी इसी तथ्य को प्रमाणित करता है। कुरैश वंशीय खलीफा मामुनुर्र्शीद(८१३-८३५) के शाशनकाल में निर्मित खलीफा का हरे रंग का चंद्रांकित झंडा भी इसी बात को सिद्ध करता है।
कौरव चंद्रवंशी थे और कौरव अपने आदि पुरुष के रूप में चंद्रमा को मानते थे। यहाँ यह तथ्य भी उल्लेखनीय है कि इस्लामी झंडे में चंद्रमां के ऊपर "अल्लुज़ा" अर्ताथ शुक्र तारे का चिन्ह,अरबों के कुलगुरू "शुक्राचार्य "का प्रतीक ही है। भारत के कौरवों का सम्बन्ध शुक्राचार्य से छुपा नहीं है।
इसी प्रकार कुरआन में "आद "जाती का वर्णन है,वास्तव में द्वारिका के जलमग्न होने पर जो यादव वंशी अरब में बस गए थे,वे ही कालान्तर में "आद" कोम हुई।
अरब इतिहास के विश्वविख्यात विद्वान् प्रो० फिलिप के अनुसार २४वी सदी ईसा पूर्व में "हिजाज़" (मक्का-मदीना) पर जग्गिसा(जगदीश) का शासन था।२३५० ईसा पूर्व में शर्स्किन ने जग्गीसी को हराकर अंगेद नाम से राजधानी बनाई। शर्स्किन वास्तव में नारामसिन अर्थार्त नरसिंह का ही बिगड़ा रूप है। १००० ईसा पूर्व अन्गेद पर गणेश नामक राजा का राज्य था। ६ वी शताब्दी ईसा पूर्व हिजाज पर हारिस अथवा हरीस का शासन था। १४वी सदी के विख्यात अरब इतिहासकार "अब्दुर्रहमान इब्ने खलदून " की ४० से अधिक भाषा में अनुवादित पुस्तक "खलदून का मुकदमा" में लिखा है कि ६६० इ० से १२५८ इ० तक "दमिश्क" व "बग़दाद" की हजारों मस्जिदों के निर्माण में मिश्री,यूनानी व भारतीय वातुविदों ने सहयोग किया था। परम्परागत सपाट छत वाली मस्जिदों के स्थान पर शिव पिंडी कि आकृति के गुम्बदों व उस पर अष्ट दल कमल कि उलट उत्कीर्ण शैली इस्लाम को भारतीय वास्तुविदों की देन है।इन्ही भारतीय वास्तुविदों ने "बैतूल हिक्मा" जैसे ग्रन्थाकार का निर्माण भी किया था।
अत: यदि इस्लाम वास्तव में यदि अपनी पहचान कि खोंज करना चाहता है तो उसे इसी धरा ,संस्कृति व प्रागैतिहासिक ग्रंथों में स्वं को खोजना पड़ेगा.

नवीन त्यागी said...

अब बता तेरी टी. आर . पी कितनी बढाऊं.ये लाफंदर्गर्दी छोड़ दे ,नहीं तो तेरे अल्लाह और मोहम्मद की वाणी को सारा हिन्दू समाज जो प्रेम की वाणी के नाम से जानता है तेरे ही ब्लॉग पर नंगा कर दूंगा------तुझे और तेरे अल्लाह और तेरे मोहम्मद को,अरे हिन्दू जन तो इतना नादान है की जिन लोगो ने उसे मारा काटा उसे भी पूजता है.पर तुझ जैसे आई० एस ० आई ० के एजेंट उसका सारा गलत- विशवास जल्दी ही समाप्त कर देंगे. संभल जा

Anonymous said...

baakkkwwwwaaaaaasssssss

nitin tyagi said...

जूते लगाने के मामले में हिन्दू बड़े संकोची स्वभाव के हैं, इसीलिये भारत में मुसलमानों को खुलेआम हिन्दुत्व पर जोरदार तरीके से चौतरफ़ा गन्दगी फ़ेंकने की सहूलियत हासिल है

Florence said...

dera navin tyagi...leave the muslims alone...just tell me if u obey ur religion truly.have u read the vedas and puranas.......do u know ur brahmasutra........ekam brahma dwityia naaste............
it means there's one and only one god..no any other.aur wo nirakar hai,jiska koi roop nahi....bas aap itna hi maan lo,safal ho jaoge........wish u all d best

vivek said...

dear readers

islam can not be understood in better way without going through scholarly articles by agniveer site.

self acclaimed islamic scholar dr zakir naik has been analysed critically and his half baked untruth is exposed by agniveer ji.

please visit below links for more details.

http://agniveer.com/category/misc/zakir-naik-misc/

articles on philisophy of islam on heaven, hell, muhammad sahib, quran, allah in quran , kafir , shaitan
etc are also among major features of website.

please visit below link to know more.

www.agniveer.com

dr vivek arya

DR. ANWER JAMAL said...

हर बेहतर इंसान अल्लाह के फैसले पर सहमति की मुहर लगाता है। और हर बदतर इंसान इबलीस के एतराज के लिये नया सुबूत बन जाता है। अब हमारे लिये यह फैसला करना है कि बेहतर बनकर अल्लाह के फैसले से सहमति दिखानी है और जन्नत में जाना है या बदतर बनकर इबलीस को और ज्यादा हंसने का मौका देना है और उसके साथ जहन्नुम में रहना है?

अपर्णा "पलाश" said...

आप जिस उपनिषद की बात कर रहे है , कृपया उसके रचयिता का नम भी बता दीजिये ।
और रही बात ईशवर और अल्लाह के अलग होने की , तो हो सकता है आप ने दोनो को साक्षात अलग अलग देखा हो , और यह आपका परम सौभाग्य रहा होगा ।
हो सकता है । आपका प्रयास सफल हो हम तो यही दुआ करते है । आप अपने जीवन में अपने धर्म को श्रेष्ठ बताने में सफल हो जायें क्योकिं हमे तो इसकी तनिक भी जरूरत नही। हम सूरज को आइना नही दिखाते । क्या नवीन है और क्या पुरातन शायद यह जानने के लिये आपको अभी और अध्धययन की आवश्यकता है ।

DR. ANWER JAMAL said...

ईश्वर का ही नाम अल्लाह है .
@ सिस्टर पलाश ! मैंने कहाँ लिखा है कि अल्लाह और ईश्वर दो हैं ?
इसका मतलब यह हुआ कि आपने पोस्ट को ध्यान से नहीं पढ़ा है .
कृपया दोबारा पढ़ें .
किसी तत्वपूर्ण लेख पर केवल सरसरी नज़र डालकर टिपण्णी कर देना लेख और लेखक के साथ अन्याय करना भी है
और खुद को नादान ज़ाहिर करना भी , और आप ऐसी नहीं हैं .
प्लीज़ लेख दोबारा पढ़ें .

अपर्णा "पलाश" said...

भाई जान मुझे जो समझ नही आया वही मै पूँछना चाहती हूँ कौन कहता है कि ईश्‍वर अल्लाह एक हैं ??
इसका क्रुपयाविस्तार से मतलब बता दें
और रही बात टिप्पणी की तो मेरी कोशिश कभी भी गलत लिखने की नही रहती , मै लेख और लेखक दोनो का ही सम्मान करती हूँ । अगर अल्लाह सबसे बडा तो ईश्वर क्या है , कृपया हमेम बता दीजिये
और अगर दोनो एक ही है तो बडे छोटे की बात से क्या तात्पर्य है ।
हमारे विचारों को विस्तार दे ।
आप इतने दिन बाद हमारे ब्लाग पर आये , इस बात की हमे शिकायत है , और शिकायत करने का हक तो हम रखते है । सही कहा ना भाईजान

chandra said...

har behtar insan iswar ke phaisale par muhar lagata hai aur mochh ko prapt hoya hai. e swarg aur nark kaha hai anwar bhai bataye, mai bhi dekhana chahta hu. where is jannat where is dokhaj.

PETCLUB24.COM said...

both are equal because there are no need to compare god, god is god and they live in heart of people those who follow the god. so there is no need to arguments that who is better. Muhammad

ankus sharma said...

where is alloupnisad plz provide me who has writen this give the reference..

List all of 108 Upanishadas
From the Rigveda

001 Aitareya Upanishad
002 Aksha-Malika Upanishad - about rosary beads
003 Atma-Bodha Upanishad
004 Bahvricha Upanishad
005 Kaushitaki-Brahmana Upanishad
006 Mudgala Upanishad
007 Nada-Bindu Upanishad
008 Nirvana Upanishad
009 Saubhagya-Lakshmi Upanishad
010 Tripura Upanishad
From the Shuklapaksha Yajurveda

011 Adhyatma Upanishad
012 Advaya-Taraka Upanishad
013 Bhikshuka Upanishad
014 Brihadaranyaka Upanishad
015 Hamsa Upanishad
016 Isavasya Upanishad
017 Jabala Upanishad
018 Mandala-Brahmana Upanishad
019 Mantrika Upanishad
020 Muktika Upanishad
021 Niralamba Upanishad
022 Paingala Upanishad
023 Paramahamsa Upanishad
024 Satyayaniya Upanishad
025 Subala Upanishad
026 Tara-Sara Upanishad
027 Trisikhi-Brahmana Upanishad
028 Turiyatita-Avadhuta Upanishad
029 Yajnavalkya Upanishad
From the Krishnapaksha Yajurveda

030 Akshi Upanishad
031 Amritabindhu Upanishad
032 Amritanada Upanishad
033 Avadhuta Upanishad
034 Brahma-Vidya Upanishad
035 Brahma Upanishad
036 Dakshinamurti Upanishad
037 Dhyana-Bindu Upanishad
038 Ekakshara Upanishad
039 Garbha Upanishad
040 Kaivalya Upanishad
041 Kalagni-Rudra Upanishad
042 Kali-Santarana Upanishad
043 Katha Upanishad
044 Katharudra Upanishad
045 Kshurika Upanishad
046 Maha-Narayana (or) Yajniki Upanishad
047 Pancha-Brahma Upanishad
048 Pranagnihotra Upanishad
049 Rudra-Hridaya Upanishad
050 Sarasvati-Rahasya Upanishad
051 Sariraka Upanishad
052 Sarva-Sara Upanishad
053 Skanda Upanishad
054 Suka-Rahasya Upanishad
055 Svetasvatara Upanishad
056 Taittiriya Upanishad
057 Tejabindu Upanishad
058 Varaha Upanishad
059 Yoga-Kundalini Upanishad
060 Yoga-Sikha Upanishad
061 Yoga-Tattva Upanishad
From the Samaveda

062 Aruni (Aruneyi) Upanishad
063 Avyakta Upanishad
064 Chandogya Upanishad
065 Darsana Upanishad
066 Jabali Upanishad
067 Kena Upanishad
068 Kundika Upanishad
069 Maha Upanishad
070 Maitrayani Upanishad
071 Maitreya Upanishad
072 Rudraksha-Jabala Upanishad
073 Sannyasa Upanishad
074 Savitri Upanishad
075 Vajrasuchika Upanishad
076 Vasudeva Upanishad
077 Yoga-Chudamani Upanishad
From the Atharvaveda

078 Annapurna Upanishad
079 Atharvasikha Upanishad
080 Atharvasiras Upanishad
081 Atma Upanishad
082 Bhasma-Jabala Upanishad
083 Bhavana Upanishad
084 Brihad-Jabala Upanishad
085 Dattatreya Upanishad
086 Devi Upanishad
087 Ganapati Upanishad
088 Garuda Upanishad
089 Gopala-Tapaniya Upanishad
090 Hayagriva Upanishad
091 Krishna Upanishad
092 Maha-Vakya Upanishad
093 Mandukya Upanishad
094 Mundaka Upanishad
095 Narada-Parivrajaka Upanishad
096 Nrisimha-Tapaniya Upanishad
097 Para-Brahma Upanishad
098 Paramahamsa-Parivrajaka Upanishad
099 Pasupata Brahmana Upanishad
100 Prasna Upanishad
101 Rama Rahasya Upanishad
102 Rama-Tapaniya Upanishad
103 Sandilya Upanishad
104 Sarabha Upanishad
105 Sita Upanishad
106 Surya Upanishad
107 Tripadvibhuti-Mahanarayana Upanishad
108 Tripura-Tapini Upanishad

ankus sharma said...

where come from this upnisad give me reference
List all 108 Upanishadas
From the Rigveda

001 Aitareya Upanishad
002 Aksha-Malika Upanishad - about rosary beads
003 Atma-Bodha Upanishad
004 Bahvricha Upanishad
005 Kaushitaki-Brahmana Upanishad
006 Mudgala Upanishad
007 Nada-Bindu Upanishad
008 Nirvana Upanishad
009 Saubhagya-Lakshmi Upanishad
010 Tripura Upanishad
From the Shuklapaksha Yajurveda

011 Adhyatma Upanishad
012 Advaya-Taraka Upanishad
013 Bhikshuka Upanishad
014 Brihadaranyaka Upanishad
015 Hamsa Upanishad
016 Isavasya Upanishad
017 Jabala Upanishad
018 Mandala-Brahmana Upanishad
019 Mantrika Upanishad
020 Muktika Upanishad
021 Niralamba Upanishad
022 Paingala Upanishad
023 Paramahamsa Upanishad
024 Satyayaniya Upanishad
025 Subala Upanishad
026 Tara-Sara Upanishad
027 Trisikhi-Brahmana Upanishad
028 Turiyatita-Avadhuta Upanishad
029 Yajnavalkya Upanishad
From the Krishnapaksha Yajurveda

030 Akshi Upanishad
031 Amritabindhu Upanishad
032 Amritanada Upanishad
033 Avadhuta Upanishad
034 Brahma-Vidya Upanishad
035 Brahma Upanishad
036 Dakshinamurti Upanishad
037 Dhyana-Bindu Upanishad
038 Ekakshara Upanishad
039 Garbha Upanishad
040 Kaivalya Upanishad
041 Kalagni-Rudra Upanishad
042 Kali-Santarana Upanishad
043 Katha Upanishad
044 Katharudra Upanishad
045 Kshurika Upanishad
046 Maha-Narayana (or) Yajniki Upanishad
047 Pancha-Brahma Upanishad
048 Pranagnihotra Upanishad
049 Rudra-Hridaya Upanishad
050 Sarasvati-Rahasya Upanishad
051 Sariraka Upanishad
052 Sarva-Sara Upanishad
053 Skanda Upanishad
054 Suka-Rahasya Upanishad
055 Svetasvatara Upanishad
056 Taittiriya Upanishad
057 Tejabindu Upanishad
058 Varaha Upanishad
059 Yoga-Kundalini Upanishad
060 Yoga-Sikha Upanishad
061 Yoga-Tattva Upanishad
From the Samaveda

062 Aruni (Aruneyi) Upanishad
063 Avyakta Upanishad
064 Chandogya Upanishad
065 Darsana Upanishad
066 Jabali Upanishad
067 Kena Upanishad
068 Kundika Upanishad
069 Maha Upanishad
070 Maitrayani Upanishad
071 Maitreya Upanishad
072 Rudraksha-Jabala Upanishad
073 Sannyasa Upanishad
074 Savitri Upanishad
075 Vajrasuchika Upanishad
076 Vasudeva Upanishad
077 Yoga-Chudamani Upanishad
From the Atharvaveda

078 Annapurna Upanishad
079 Atharvasikha Upanishad
080 Atharvasiras Upanishad
081 Atma Upanishad
082 Bhasma-Jabala Upanishad
083 Bhavana Upanishad
084 Brihad-Jabala Upanishad
085 Dattatreya Upanishad
086 Devi Upanishad
087 Ganapati Upanishad
088 Garuda Upanishad
089 Gopala-Tapaniya Upanishad
090 Hayagriva Upanishad
091 Krishna Upanishad
092 Maha-Vakya Upanishad
093 Mandukya Upanishad
094 Mundaka Upanishad
095 Narada-Parivrajaka Upanishad
096 Nrisimha-Tapaniya Upanishad
097 Para-Brahma Upanishad
098 Paramahamsa-Parivrajaka Upanishad
099 Pasupata Brahmana Upanishad
100 Prasna Upanishad
101 Rama Rahasya Upanishad
102 Rama-Tapaniya Upanishad
103 Sandilya Upanishad
104 Sarabha Upanishad
105 Sita Upanishad
106 Surya Upanishad
107 Tripadvibhuti-Mahanarayana Upanishad
108 Tripura-Tapini Upanishad

nafees ansari said...

Good