सनातन धर्म के अध्‍ययन हेतु वेद-- कुरआन पर अ‍ाधारित famous-book-ab-bhi-na-jage-to

जिस पुस्‍तक ने उर्दू जगत में तहलका मचा दिया और लाखों भारतीय मुसलमानों को अपने हिन्‍दू भाईयों एवं सनातन धर्म के प्रति अपने द़ष्टिकोण को बदलने पर मजबूर कर दिया था उसका यह हिन्‍दी रूपान्‍तर है, महान सन्‍त एवं आचार्य मौलाना शम्‍स नवेद उस्‍मानी के ध‍ार्मिक तुलनात्‍मक अध्‍ययन पर आधारति पुस्‍तक के लेखक हैं, धार्मिक तुलनात्‍मक अध्‍ययन के जाने माने लेखक और स्वर्गीय सन्‍त के प्रिय शिष्‍य एस. अब्‍दुल्लाह तारिक, स्वर्गीय मौलाना ही के एक शिष्‍य जावेद अन्‍जुम (प्रवक्‍ता अर्थ शास्त्र) के हाथों पुस्तक के अनुवाद द्वारा यह संभव हो सका है कि अनुवाद में मूल पुस्‍तक के असल भाव का प्रतिबिम्‍ब उतर आए इस्लाम की ज्‍योति में मूल सनातन धर्म के भीतर झांकने का सार्थक प्रयास हिन्‍दी प्रेमियों के लिए प्रस्‍तुत है, More More More



Saturday, May 29, 2010

Ved and Quran have same message "एक हैं वेद व कुरआन,दोनों में ही इंसानियत और भाईचारे की बात कही गई है।"

जयपुर। वेद और कुरआन एक हैं। दोनों में ही ईश्वर को अजन्मा, अविनाशी व निराकार कहा गया है। यह बात रविवार को जमात-ए-इस्लामी हिन्द की ओर से कुरआन सबके लिए अभियान के तहत आयोजित कुरआन कॉन्फ्रेन्स में कानपुर के स्वामी लक्ष्मी शंकराचार्य ने बताई। स्वामी ने कहा कि वेद, उपनिषद व गीता की तरह कुरआन में भी बहुदेववाद का घोर विरोध किया गया है। कार्यक्रम के अध्यक्ष जमात के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना सैयद जलालुद्दीन उमरी ने कहा कि कुरआन मंजिल पर पहंुचाने वाला है। संगठन के प्रदेशाध्यक्ष इंजीनियर मोहम्मद सलीम ने कहा कि कुरआन सारी मानव जाति के लिए ईश्वर की ओर से मार्गदर्शन है। जमात के केन्द्रीय सचिव मोहम्मद इकबाल मुल्ला, राजस्थान मुस्लिम फोरम के संयोजक कारी मोईनुद्दीन, सद्भाव मंच के संयोजक सवाई सिंह, राजस्थान अल्पसंख्यक आयोग के पूर्व अध्यक्ष जसबीर सिंह, लेखक इकराम राजस्थानी ने कुरआन के कुछ अंशों के भावार्थ पेश किए। कार्यक्रम का आरम्भ कारी मोहम्मद यूसुफ के तिलावते कुरआन से हुआ।
छात्रा इरम इकबाल का गीत "कुरआन सबके लिए..." लोगों ने काफी पसन्द किया। कुरआन के हिन्दी अनुवादक मौलाना मोहम्मद फारूख खां सोमवार को अपराह्न 3 बजे मालवीय नगर स्थित प्राकृत भारती अकादमी में आयोजित कुरआन प्रवचन देंगे।
http://www.patrika.com/news.aspx?id=210882
एक सच्चे संत के सन्देश को आम जनता के सामने लाने के लिए .
फोटो : सलीम खान साहिब स्वामी श्री लक्ष्मी शंकराचार्य जी के साथ .

32 comments:

पी.सी.गोदियाल said...

डाक्टर साहब, न चाहते हुए भी आज पहली टिपण्णी में दे रहा हूँ , और कहना सिर्फ इतना चाहता हूँ कि आप लोग ( यहाँ मौजूद मुस्लिम्बुद्धिजिवी ) अच्छे मार्केटिंग मैनेजर नहीं हो ) निसंदेह आप आज बहुत उत्तम लिख रहे हो मगर ज्यादा पाने के लालच मेंआपने जो अपनी सुरु में इमेज खराब कर दी , अब जितना मर्जी , कोशिश कर लो वह ठीक नहीं होने वाली , धीरे-धीरे कछुवे की चाल बढ़ते तो शायद ..... खैर ,

DR. ANWER JAMAL said...

senior blogger गोदियाल जी ! हम आपकी सलाह का सम्मान करते हैं . आप एक शायर हैं और बखूबी जानते हैं कि वक़्त और हालात इन्सान को कभी कभी बहुत कुछ कहने और करने के लिए मजबूर कर देते हैं . आज दोबारा फिर मैं आपके चेहरे कि लालिमा में इज़ाफ़े कि कामना मालिक से करता हूँ . आपकी आमद का शुक्रगुज़ार हूँ .

Aman said...

वेद और कुरआन एक हैं। दोनों में ही ईश्वर को अजन्मा, अविनाशी व निराकार कहा गया है।

man said...

डॉ. जमाल इकराम राजस्थानी राजस्थान के जाने मने शायर और कवी हे उन्हें मेने जयपुर अजमेर आकाश वाणी पे खूब सुना हे ,

सिद्ध said...

Nice Post.

गुलशन said...

"कुरआन सबके लिए" ईश्वर की ओर से मार्गदर्शन है।

Dr. Ayaz ahmad said...

लाजवाब पोस्ट

Anonymous said...

हर भारतीय पढ़े वेद क़ुरआन । तभी बनेगा मेरा भारत महान॥

ज़ाहिद देवबंदी said...

हर भारतीय पढ़े वेद क़ुरआन । तभी बनेगा मेरा भारत महान॥

Shah Nawaz said...

Behtreen Post Anwar Bhai. Dar asal dono hi grantho ki Shikshaen ek si hi hain, voh to ladvane walo ne aur bewakawoof bananae walon ne mazhab ke naam par dukaane chala rakhi hain.

Anonymous said...

Ghanta, कुरआन सबके लिए nahii ho saktii, ye sab jhoota prachaar hai. "Kuran sabke liye" prachaar karne kii jaroorat kyo padi. Ye sab musalmaano kii jhooti chaal hain, ye saale apne baap ke nahii huye to ye VED ko maanege.

Anver, KHOONI kitab QURAN ko jabardasti VEDO ke saath jodne kii kishish kar rahaa hain.

QURAN ne na jaane kitne logo ko maar diyaa hain. QURAN ko padne ke baad aadmi SAITAAN ho jaataa hain, jaise ANVAR, BIN Laden, TALIBAAN, LAKHAVI....

Joote maro saalo ko

SHAZY said...

good post aur be-shak ab main ye keh sakta hoon ki satyug aane main zayada samay nahi bacha hai be-shak akhand bharat ki isthapna sameep hi hai thanks.

Mohammed Umar Kairanvi said...

जमाल साहब खरगोश की चाल से आपने यादगार ब्‍लागिंग की, कछूवे की चाल से शायद चलते ही रहते, आपकी लाचिंग शानदार रही आपको इधर सफल देख कर बहुतों को शान्ति मिलती है

सलीम साहब की ताजा पोस्‍ट का बेहद इन्‍तजार था, आपसी भाईचारे के लिये उसकी बहुत जरूरत थी

nitin tyagi said...

अब बात करते हैं साध्वी प्रज्ञा की .मुझे लगता है की साध्वी प्रज्ञा ने जो किया है उसकी भरपाई हम वर्षों में भी करना चाहें तो भी नहीं कर सकते .अब तक हम सभी हिन्दू ये गर्व से कहते थे की -
"every muslim is not a terrorist but every terrorist is a muslim "

nitin tyagi said...

साध्वी प्रज्ञा और उनके साथियों ने एक ऐसा कृत्य किया है जिससे की हिंदुत्व पर भी आतंकवाद का दाग लग गया है .अब हम कभी भी गर्व के साथ और पूरे जोश से वो ऊपर वाली line नहीं कह सकते.

nitin tyagi said...

" हम vedo को बिल्‍कुल ही गलत नहीं ठहरा सकते हैं पर हां हम आज उन पुस्‍तकों की मान कर सतीप्रथा या बाल विवाह भी नहीं ला सकते अत: हमें उनसे केवल समसामयिक विषयों पर चरितार्थ हो रहे विषयों का चयन ही करना चाहिये।"

sahespuriya said...

GOOD + NICE

Tarkeshwar Giri said...

Anwar saheb, kya baki dharmgranth bekar hain , ya sab juth. akhir kuran hi kyon, GEETA AUR VED KYON NAHI.

KURAN MAIN TO SIRF ADESH DIYA GAYA HAI.

GEETA MAIN TO PURA SANSAR BHARA PADA HAI.

VEDO MIAN PURA VIGYAN BHARA PADA HAI.

DR. ANWER JAMAL said...

भाई गिरी ! आप बिना पोस्ट पढ़े ही कमेन्ट करने के लिए मशहूर होते जा रहे हैं। आपने केवल शीर्षक पढ़कर ही कमेन्ट दे मारा जबकि वेद के अलावा गीता और उपनिषद का ज़िक्र भी लेख में मौजूद है। आपके आने के लिए आभार।

राहुल पंडित said...

ठीक कहा गिरी जी वेदो मे साइंस देखने के लिए मेरी पोस्ट पढ़े dhramkibaat.blogspot.com

DR. ANWER JAMAL said...

Mr. Anonymous!
दुनिया बनाने वाले ने दुनिया क्यों बनाई?
जब आप इस सवाल का जवाब पा जाएंगे तो आप जान जाएंगे कि नर्क या जहन्नम में जाने वाले वही लोग होंगे जिन्होंने धरती पर नाहक़ खून बहाया होगा।
अगर आप सचमुच जानना चाहते हैं तो मौलाना वहीदुददीन ख़ान साहब से 1, निज़ामुददीन वेस्ट , नई दिल्ली पर सम्पर्क कर सकते हैं। विशेषकर रविवार को सुबह 9 बजे तो उनके पास आप जैसे सवाल लेकर बहुत से लोग आते हैं।
(Centre For Peace & Spirituality)
1, Nizamuddin West Market
New Delhi-11 00 I3
India

Order Free Quran, Click:

www.cpsglobal.org/content/order-free-quran

www.goodword.net/order_free_quran.aspx

Website: www.cpsglobal.org, www.alrisala.org

www.wkhan.net

Dr. Ayaz ahmad said...

@गिरी जी वेदो मे कहाँ कहाँ है? जरा एक दो हमे भी बताओ

Dr. Ayaz ahmad said...

ब्लागवाणी पर अभी तक कमेँट की संख्या एक ही दिखाई जा रही है जबकि वास्तविक संख्या 23 है

Anonymous said...

@DR. ANWER JAMAL
दुनिया बनाने वाले ने दुनिया क्यों बनाई? Tumhaare muh se ye baat sab khokhli lagatii hain. dharti par naahak khon bahaane kaa sabse badi doshii to Mohammad Paigamber, Jiskii KHOONI Kitab QURAN pad kar aadmii KHOONI ho jaata. Jiase QURAN mein likhaa hain ki KAFIRO ko maro, yaane doosre dharm ke logo ko maaro, to sabse bada apradhii to paigmber hua, paigamber ko jannat mili ya jahhanum.

Anvar ye sab jhoota prachaar chhod do, joote padenge. Musalmaan kabhi bhee doosre dharm ke nahii ho sakte,
Musalmaano kii neeyat mein khot hain, wo hamesha doosre dharm ko niichaa dikhate rahte hain, Jab tumharii hi QURAN mein doosre dharm ko gaali de rakhii ho to tum se kyaa ummeed kar sakte hain

MUSALMAAN DHARTI MEIN BHOJHE HAIN

Anonymous said...

@ ANVAR, Hope for life क्या अपाहिज भ्रूण को जन्म लेने का अधिकार है
Tumhaara ye comment padha,

QURAN mein likha hain ki POLIO kii DAVAA peena HARAAM hain,

Musalmaan, desh ke अपाहिज bachho ke liye jimedaar hain, Musalmaan log POLIO kii dava nahii peete, aur POLIO kaa bateria doosre bachho ko bhii nuksaan pahunchha deta hain.

Desh ke hajaaro अपाहिज Bachho ke liye QURAN jimedaar hain

DR. ANWER JAMAL said...

हिन्दू अपनी मर्ज़ी के मुताबिक़ चल रहा है। आर्यसमाजी बंधु! आपने कहां देख लिया कि पवित्र कुरआन में पोलियो की दवा न पिलाने के लिए लिखा हुआ है?
http://vedquran.blogspot.com/2010/04/dr-surendra-kumar-sharma-agyat.html

asrar said...

ISLAM IS TRUTH and TIME is PROOVE it!!!!!!!!!!!!

vastu said...

hum ye to kah sakte hain ki ved aur kuran main kuchch kuchch ek sa hai lekin dono ek hain, ye kahna atishyokti hogi. Ved chaar vedo ko kaha jata hai aur unme shamil kiye gaye vishye bahut hain. Aur kuraan un sare vishyo ko cover nahin karta. Kuraan main kahi gayi quafi baten vedon mein kahin nahin hai aur aise hi vedon main kahi gayi kayi baten kuraan mein hai hi nahin.

S.M.MAsum said...

कुरआन मैं , नसीहत भी है, ज्ञान और विज्ञान भी है, यह एक संपूर्ण नियम पुस्तिका है, किसी इन्सान को कैसे जीवन जिया जाए, बताती है. हाँ इस्लाम मैं जब्र नहीं है. जिसको जो सही लगे माने, लेकिन कम से कम एक बार इसको पढ़े अवश्य, जिस से वोह जान सके इसमें, हकीअत मैं है क्या? जीवन में भूल-चूक कर भी अपनी इन्द्रियों के बहाव में मत बहो

chandra said...

the main aim of ISLAM to spead ARBIC language all over the world with the name of Allah. When Allah know about all language and every thing. why Maulana Said Allah hear only ARBIC Langage. I pray Five Times daily and in Hindi, which meaning same as Arbic word in Nawaz, why may pray does not Accepted by Allah.

chandra said...

Allah make all Universe. why non muslim called Kafir. all creature prepaired by allah. Manner is prepaied by men. men be either INSAN or SAITAN. persons who stand on VED, KURAN and BIBLE and make diffencees in HUMAN in the name of religon Called SAITAN. and who do not see difference in human are called INSAN

Parth Bhatt said...

mano ek company he jo ek product banati he. mano lemp banati he. ab lakho ki mtra me lemp bante he. fir bhi lemp ka aakar same raheta he. same volt leta he. saman ujala hi deta he. kyu? kyoki banane vala ek he. ek hi machine me ek hi company me banta he. kyoki malik bhi ek hi to he.. hum sab us lemp ki tarah hi to he.. hindu muslim sikh isai sabke ndar khoon to laal hi he., aankhe do hi he..hath pav bhi do do hi he. koi fark nahi. kyoki banane vala ek he. sab ek malik ka production he.. sab uski aulad he sab bhai bahan he. sab ek parivar he. sabse mil jul kar pyar se rahena he. itna samaj le insan to bhi kaafi he. automatically ved , geeta, gurugranth saheb, bible , quran. sab ka message ka palan hota he...geeta quran sab padhne ki chiz nahi,balki jivan me utarne ki chiz he. jivan me utar gaya tab khud hi quran ban jaenge khud hi geeta ban jayenge. andar se krishna ki aavaj aaegi . geeta andar se aaegi, padhne ki jarurat na rahegi kyoki tab tum apne andar bethe parmatma ko jan loge.... is bat par meri bhul ho ya samvad karna koi chahe to plz parth_bhatt29@rediffmail.com par e mail kare... muje achha lagega.